Skip to main content

कुंडली के पहले भाव के कारक तत्व - first house properties in Astrology

 




आज हम बात करते हैं कुंडली के हर भाव के कारण तत्वों के बारे में. ज्योतिष का एक महान ग्रंथ है उत्तर कालमृत ये कालिदास जी के द्वारा रचित है इसमें कुंडली के हर भाव के जो कारक तत्व होते हैं जो प्रॉपर्टीज़ होती है उनके बारे में बताया गया है और जितना मैं अभी तक पढ़ पाया हूँ ना यहाँ पर सबसे ज़्यादा खुलकर बताया गया है और सबसे ज़्यादा प्रॉपर्टीज़ बतायी गयी संख्या में.


 आज हम जानेंगे पहले भाव के बारे में हालाँकि आप जुड़े रहेंगे तो ये सभी ग्रहों के सभी भावों के कारक तत्व एक एक करके अलग अलग पोस्ट में बताता रहूंगा ठीक है ना लेकिन आज मैं पहले भाव के बारे में बताऊँगा. 


पहला भावों हमारी ही हेल्थ और हमारी बॉडी से जुड़ा हुआ है. जीवन का सुख दुःख, हमारा बुढ़ापा, हमारा ज्ञान समझ, जन्मस्थान, यश कीर्ति गौरव, जो सपने हम देखते हैं उसका फल कैसा होगा, हमारे अंदर बल कितना है, हमारे अंदर प्रभाव कितना है जिससे हम सामने वाले को प्रभावित कर पाते हैं, राज्य या सत्ता का सुख, हमारी आयु, हम कितने ज़्यादा आनंद में रहेंगे.


हमारे बाल, चेहरे की सुंदरता, हमारे अंदर जो स्वाभिमान है वो किस तरह का होगा, हमारी रोज़ी रोटी, कुछ हद तक पहले भाव से जुआ खेलना या दाव लगाना भी देखा जाता है, जीवन में हम अपमान और कलंक सहेंगे तो किस तरह के होंगे, हमारा मान सम्मान के स्तर का होगा, हमारी त्वचा कैसी है, हमारी नींद कैसी है, हमारी बुद्धिमत्ता कैसी है, धन संबंधी घोटाला भी पहले भाव से देखा जाता है, दूसरों का अपमान करने की जो हमारे अंदर भावना होती है वो भी पहले भाव से देखी जाती है.


किसी रोग से मुक्ति पहले बावजूद की जानी चाहिए हमारे अंदर त्याग की भावना पशुपालन मर्यादा भंग करना अपने कुल या अपनी जाति से दूर चले जाना ये सब पहले भाव से देखा जाता है इसके अलावा लगन से नाना और दादी को भी देखा जाता है हमारे चेहरे के ऊपर कील मस्से होंगे वो भी पहले भाव से देखा जाता है जाता है


लगन जो होता है पहला भाव यानी इसे अनुभव भी कहा जाता है अब जो हमारा देह है वो किसी भी शेप का हो सकता है लेकिन जो देह होती है उसका मुख्य स्थान से होता है वो मस्तिष्क होता है वो पूरी बॉडी को ऑपरेट करता है इसलिए सभी भावों में पहले भाव को सबसे प्रमुख माना गया है. जब हम किसी हालात में फँस जाते हैं या अलग अलग परिस्थिति का सामना करते हैं तो उस समय जो हमारी समझ बूझ की ताक़त होती है वो भी लगन से देखी जाती है.


अब यहाँ बहुत सारे ऐसे कारक तत्व ये बताए गए हैं जो दूसरे भावों से मैच करेंगे और कुछ कारक ऐसे भी हैं जो आप ये पूछ सकते हूँ कि ऐसा यहाँ से क्यों देखें. 


जब आप धीरे धीरे बाक़ी भावों के बारे में पढ़ते जाएंगे तब आपको काफ़ी सारी चीज़ें ख़ुद ही क्लियर हो जाएगी न कि पहले भाव को ये सब चीज़ें क्यों दी गई है. 


धन्यवाद


दूसरे भाव का पोस्ट जल्द आएगा धन्यवाद

जुड़ने के लिए 9899002983 पर कांटैक्ट कर सकते है.

.


Comments

ads

Popular posts from this blog

सब कुछ सही होने के बाद भी तरक्की नहीं - किस तरह का वास्तु दोष

शुक्र राहु की युति को कैसे समझे - RAHU VENUS CONJUCTION

Popular posts from this blog

सब कुछ सही होने के बाद भी तरक्की नहीं - किस तरह का वास्तु दोष

कुछ लोगो को इस बात की शिकायत रहती है के इन्हे अंदर से ताकत नहीं मिल रही. सब कुछ है लेकिन फिर भी जोश उमंग की कमी है जो तरक्की करने में परेशानी दे रही है. आज बात करते है वास्तु शास्त्र में इस समस्या को कैसे देखते है और क्या है इसका समाधान।

शुक्र राहु की युति को कैसे समझे - RAHU VENUS CONJUCTION

  राहु शुक्र की युति को लेकर काफी बड़ा ज्योतिष वर्ग नेगेटिव धारणा रखता है जो की आज के समय में काफी हद तक सही भी है. आपने बहुत आंधी देखी होगी और कभी कभी बहुत ज्यादा धुल भरी आंधी भी देखी होगी. लेकिन आप इमेजिन कीजिये शाम के समय जो आंधी आती है उसमे कालापन ज्यादा  होता है और एक अजीब सा बर्ताव आपको उसमे मिलेगा। ऐसा नहीं है के उसमे कुछ रहस्य है लेकिन प्रकाश की कमी की वजह से शाम की आंधी काली आंधी बन जाती है बस इसी को असली राहु शुक्र की युति समझे. 

शनि राहु युति का ज्योतिष में महत्व - Saturn Rahu conjunction in Astrology

  नमस्कार दोस्तों ज्योतिष सूत्र में आज चलते है एक ऐसी युति की ओर जो लगभग हर परेशान घर में होती है. आज बात करते है शनि राहु की युति। एक तरह से समझिये जूते में लगी गंदगी. क्यूंकी शनि जूता और गंदगी राहु। अगर आप अपने अंदर कल्पना शक्ति कजाते है तो ज्योतिष के सूत्र आसानी से समझ आने लगते है. तो आज इसी युति पर हम लोग चर्चा करते है. 

सूर्य का ऋण जन्म कुंडली के अनुसार - jyotish sutra about sun and past karma

आज हम बात करते है एक ऐसे ज्योतिष सूत्र की जो सूर्य से संबंधित है लेकिन इसकी पहचान व्यक्ति को खुद करनी होती है. देखिये कुछ ज्योतिष सूत्र इस तरह से बने होते है जिसमे जातक के घर की स्थिति, शरीर की स्थिति से ही पता लगाया जाता है के असल परेशानी का कारण क्या है. जन्म पत्रिका में प्रारब्ध यानी पहले से लिखे हुए फल भी होते है तो जन्म पत्रिका पिछले जन्म या जिस घर में जन्म हुआ है उन दोषो का भी पता बता देती है. 

वास्तु में सेक्स के लिए कौन सी दिशा - vastu-fengshui directions for sex

  वास्तु शास्त्र में हर दिशा किसी न किसी काम से जुडी होती है. आज आपको बताते है के सेक्स और अट्रैक्शन से मुद्दों के लिए कौन सी दिशाएं महत्वपूर्ण होती है. In Vastu Shastra, every direction is related to some work. Today we will tell you which directions are important for issues related to sex and attraction.