Skip to main content

Posts

Showing posts with the label gaytri mantra

गायत्री मन्त्र रहस्य - लेक्चर 2

 गीता में भगवान भगवान श्रीकृष्ण ने खुद कहा है  "गायत्री छन्दसामहं" इसका मतलब है गायत्री मन्त्र मैं ही हूँ. गायत्री मन्त्र सनातन एवं अनादि मंत्र है पुराणों में कहा गया है कि सृष्टि कर्ता ब्रह्मा को आकाशवाणी द्वारा प्राप्त हुआ था गायत्री मन्त्र को समझने के पश्चात उन्हें सृष्टि निर्माण की शक्ति प्राप्त हुई.  गायत्री के 4 चरणों को समझ कर  ही ब्रह्मा जी ने चारों से चार वेदों का वर्णन किया। गायत्री को वेदमाता कहते हैं. ऐसा माना जाता है के वेद जो है वो गायत्री मन्त्र का एक explanation मात्र है. यानी किसी को गायत्री मन्त्र का सही ज्ञान हो जाए तो चारों वेद का ज्ञान उसे हो जाता है.   गायत्री के 24 अक्षर अत्यंत ही महत्वपूर्ण ज्ञान व् रहस्य के प्रतीक हैं. वेद,पुराण,उपनिषद की जो शिक्षाएं है वो सब इन २४ अक्षरों में भी है.  इनके द्वारा व्यक्ति समस्त सुख पा सकता है.  भारतीय सनातन की चार मूल है जो की गंगा-गौ-गीता-गायत्री है इनमे गायत्री सबसे प्रथम स्थान रखती है क्यूंकि इस से प्रेरणा मिलती है गौ (इन्द्रियों) को ताकि गंगा(पवित्रता) के साथ गीता (धर्म पथ) पर चला जा सके.  गायत्री उपासना के साथ-साथ

गायत्री मन्त्र और उसका मतलब - लेक्चर १

  आज गायत्री मन्त्र पर एक छोटी सी सीरीज शुरू कर रहा हूँ जिसमे गायत्री मन्त्र से संबंधित जितनी जानकारी  होगी वो पाठको को उपलब्ध कराई जायेगी. सबसे पहले गायत्री मन्त्र परिचय  गायत्री मन्त्र  ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यम् , भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||     गायत्रीअनुवाद हिंदी में - ओम भूर भुव स्वह ततस वितुर वरे नयम, भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नह प्रचो दयात  गायत्री मन्त्र का मतलब  उस प्राण स्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अंतःकरण में धारण करें। वह प्रभु हमारी बुद्धि को सही मार्ग में ले जाए । ये मन्त्र सविता देव के लिए लिखा गया है जो की सुबह के सूर्य का ही एक नाम है, ( तत्सवितुर्वरेण्यम्) इंग्लिश में अनुवाद - gaytri mantra in english  om bhur bhuva swah tatas vitur vare nayam, bhargo devasya dhi mahi dhiyo yo nah pracho dayat  Meaning of gaytri mantra in english  OM. I adore the Divine Self who illuminates the three worlds -- physical, astral and causal; I offer my prayers to that God who shines like the Sun. May He enlight

ads